ED के सामने पेश नहीं होंगे प्रफुल्ल पटेल


विमानन घोटाले के मामले में आज पूर्व उड्डयन मंत्री और एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल की ईडी के सामने पेशी थी. ईडी ने प्रफुल्ल पटेल को एयरलाइन सीट अलॉटमेंट स्कैम ने पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन अब खबर ये है कि पटेल आज ईडी के सामने पेश नहीं होंगे. पटेल ने कहा कि पहले से निर्धारित काम के कारण उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय से एक दूसरी तारीख के लिए अनुरोध किया है.

बता दें कि हाल ही में विमानन लॉबिस्ट दीपक तलवार से संबंधित एक मामले की चार्जशीट में प्रफुल्ल पटेल का नाम सामने आया था. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के नेता प्रफुल्ल पटेल साल 2004 और 2011 के बीच नागरिक उड्डयन मंत्रालय के प्रभारी थे. राज्यसभा सांसद पटेल का सेे धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत बयान दर्ज किया जाना है. इससे पहले पटेल ने कहा था कि वो ईडी को जांच में सहयोग करेंगे और उड्डयन क्षेत्र की जटिलताओं के बारे में जांच एजेंसी को बताएंगे.

बता दें कि यूपीए सरकार के दौरान हुई एयरबस विमान खरीद में 1000 करोड़ रुपये से अधिक का घोटाला हुआ था. इसके लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता वाली सुरक्षा से संबंधित मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीएस) के फैसले को ही बदल दिया गया था. घोटाले के सारे सुबूतों से लैस प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने तत्कालीन नागरिक उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल को पूछताछ के लिए समन भेजा था. पटेल से आज दिल्ली स्थित ईडी मुख्यालय में पूछताछ होनी थी.

ईडी के पास मौजूद दस्तावेजों के अनुसार, 2006 में सीसीएस ने एयरबस से 43 विमानों की खरीद को हरी झंडी दी थी. समिति ने यह भी तय कर दिया था कि किस कीमत पर ये विमान खरीदे जाएंगे. इसके साथ यह शर्त भी जोड़ी गई थी कि एयरबस को 17.5 करोड़ डॉलर (लगभग 1000 करोड़ रुपये) की लागत से भारत में ट्रेनिंग, मेंटिनेंस, रिपेयर और ओवरहॉलिंग की सुविधा विकसित करनी होगी. ताकि पायलटों की ट्रेनिंग से लेकर विमानों के रखरखाव पर अतिरिक्त बोझ न पड़े.

No comments