मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नंदीग्राम दिवस पर ‘शहीदों’ को याद किया

 
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उन लोगों को याद किया जो ‘‘माकपा की हिंसक राजनीति’’ के कारण मारे गए। ‘नंदीग्राम दिवस’ पर उन्होंने माकपा पर आरोप लगाया कि पूर्वी मिदनापुर जिले में 2007 में नंदीग्राम के लोगों पर उसने ‘बर्बर हमले’ कराए। ममता ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘आज नंदीग्राम दिवस है। नंदीग्राम में माकपा द्वारा कराए गए बर्बर हमले की याद अब भी ताजा है।’’ वर्ष 2012 से तृणमूल कांग्रेस प्रति वर्ष ‘‘नंदीग्राम दिवस’’ मनाती है।

उन्होंने ट्वीट किया, मैं नंदीग्राम, सिंगूर, नेतई, ननूर, केशपुर के उन सभी शहीदों को याद करती हूं जो माकपा की हिंसक राजनीति के शिकार बने।’’ वाम मोर्चा की सरकार द्वारा प्रस्तावित विशेष आर्थिक क्षेत्र के (एसईजेड) के खिलाफ बनर्जी के टीएमसी के नेतृत्व में जनवरी 2007 में किसानों ने नंदीग्राम में प्रदर्शन किए थे। तत्कालीन मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य ने उसी वर्ष 2500 पुलिसकर्मियों को नंदीग्राम में जमीन पर ‘‘फिर से कब्जा’’ करने के लिए भेजा ताकि वहां पेट्रोरसायन केंद्र बनाया जा सके।

आधिकारिक रिकॉर्ड के मुताबिक गोलीबारी में 14 किसान मारे गए लेकिन सौ से ज्यादा ‘‘लापता’’ घोषित किए गए। नंदीग्राम में मारे गए 14 किसानों की स्मृति में प्रति वर्ष 14 मार्च को ‘कृषक दिवस’ भी मनाया जाता है। नंदीग्राम में किसान आंदोलन के बाद हुगली जिले के सिंगूर में भी किसानों का आंदोलन हुआ जिसका लाभ उठाते हुए ममता राज्य में 34 वर्ष पुराने वाम मोर्चा के शासन को खत्म कर पाई थीं।

No comments