यूपी का चुनाव प्रदेश के अलावा देश का चुनाव: अखिलेश यादव


लखीमपुर : परिवार की कलह और कांग्रेस के साथ गठबंधन के बाद अखिलेश यादव ने ताबड़तोड़ चुनावी प्रचार शुरु कर दिया है। लखीमपुर खीरी में आयोजित चुनावी रैली को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि यह देश का चुनाव है। यह चुनाव हमारे-आपके और प्रदेश के चुनाव से इतर देश का चुनाव है। साइकिल को तेज चलाने के लिए बहुमत की सरकार बनानी है।
अखिलेश ने कहा कि अब तो सर्दी खत्म हो गई है, गर्मी के दिन भी देख लिए, कोहरे के दिन भी देख लिए, सर्दी वाले दिन भी देख लिए, परेशानी वाले दिन भी देख लिए, लेकिन अच्छे दिन कहां है, बताओं कहां से ढूंढ लाउं ये अच्छे दिन। इन लोगों ने देश को पीछे कर दिया है, मैं आपसे अपील करता हूं कि आने वाले समय में देश की दिशा और दशा क्या हो उसके लिए यह चुनाव काफी अहम है।
सर्जिकल स्ट्राइक के नाम पर लोगों को गुमराह किया, इन लोगों ने देशभक्ति का नारा तो दिया लेकिन कोई शहीदों की कोई मदद नहीं की, लेकिन हमने हर शहीद होने वाले जवान को 25 लाख रुपए अनुदान देने का काम किया है।
सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ व पत्थर वाली सरकार के खिलाफ वोट कर देना, हम आपको भरोसा दिलाते हैं जो वायदे किए हैं उसे पूरा करेंगे। 
जो इन्होंने योगा सिखाया था, योगा में कई आसन होते हैं, लेकिन अब लोग इनके खिलाफ वोट करने जा रहे हैं। 
जो पैसा बैंक में जमा हुआ उसे पीएम ने कहा था कि यह काला धन है, लेकिन जो पैसा बैंक में जमा हुआ उसपर टैक्स नहीं मिला, जिसके बाद कारोबार ठप्प हो गया। इन लोगों ने नोट बंद करके बहुत बड़े पैमाने पर नुकसान किया है। 
भाजपा चमत्कारी पार्टी है, उससे बचकर रहना होगा। पैसा काला या सफेद नहीं होता है, बल्कि लेन देन काला सफेद होता है। लेकिन भाजपा के लोगों को इतनी भी समझ नहीं है। 
हर घर में माताएं, बहने, बुजुर्ग पैसा छुपाकर रखते हैं, लेकिन अच्छे दिन वालों ने यह भी बेकार कर दिया। 
अच्छे दिन वालों ने व्यापारियों का सबसे अधिक नुकसान किया है। 
पहले आप अकेले साइकिल चला रहे थे, लेकिन अब आपके साथ हाथ भी लग गया है। 
मुसलमान भाइयों से कहना चाहता हूं कि हमने आपको आपका हक देने का काम किया है, हमपर मुसलमानों की पार्टी होने का आरोप लगता है, लेकिन हमारी सारी योजनाएं सभी के लिए है। 
दूसरे लोग तो प्रचार शुरु नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि लोग जानते हैं जो हमने वायदे घोषणा पत्र में किए हैं उसे पूरा करेंगे। 
बसपा और भाजपा वालों के पास क्या काम किया है बताने के लिए कुछ भी नहीं है। 
जुमले वाली पार्टी आई तो बहुत मुश्किल होती है, लोग कहते हैं कि समझाने से वोट नहीं मिलता है, बहकाने से मिलता है, इसलिए बहकाने वालों से दूर रहना। 
अगर आप चाहते हैं कि काम तेजी से हो तो हमें सरकार में ला देना। 
ट्रांसफार्मर 48 घंटे के अंदर बदल जाए, आने वाले समय में यह काम करेंगे। 
आजादी के बाद सबसे अधिक काम समाजवादियों ने किया है। 
गांव में 16-18 घंटे बिजली पहुंचाने का काम किया, शहरों में 24 घंटे बिजली पहुंचाने का काम समाजवादियों ने किया। 
बिजली बनाने का सबसे ज्यादा काम हमने किया, कोयले से बिजली बनाने का काम किया, पानी से बिजली बनाने का काम किया। 
आने वाले समय में 10वेें के बाद 11वीं में युवा को कौशल शिक्षा देने का काम करेंगे। 
हम नौजवानों को रोजगार देने का काम कर रहे हैं, लाखों रोजगारों दिए हैं, आने वाले समय में कौशल विकास का काम करेंगे। 
आने वाले समय में जिला अस्पतालों को बेहतर बनाने का काम करेंगे, गरीबो का इलाज कहीं भी हो हम उसे मुफ्त में कराएंगे। 
मैं जब प्राइमरी स्कूल गया था तो वहां बगल में मेला चल रहा था, रजिस्टर में बहुत से बच्चों के नाम हैं लेकिन स्कूल सिर्फ कुछ ही बच्चे जाते थे। हम प्राइमरी स्कूलों को बेहतर करेंगे। 
सालों की अनदेखी की वजह से प्राइमरी स्कूलों की व्यवस्था बेकार हो गई, लेकिन तकनीक के जरिए हम प्रदेश के सबसे अच्छे टीचरों की शिक्षा को रिकॉर्ड कराएंगे और स्कूल में स्क्रीन लगाकर बच्चों को पढ़ाएंगे। 
हमारी सरकार गरीबों और किसान की सरकार है। 
अभी 55 लाख महिलाओं को पेंशन दी है, लेकिन आने वाले समय में कोई महिला नहीं बचेगी जिसे पेंशन नहीं देंगे, अभी 500 दे रहे हैं और आगे 1000 रुपए देंगे। 
गर्भवती महिलाओं की मदद कर रहे हैं, उनके लिए विशेष योजना चला रहे हैं, समाजवादी पेंशन शुरु की है। 
कभी-कभी बुराई का सामना करना पड़ता है, लकड़ी जा रही है रोक लिया, ट्राली जा रही है रोक लिया, लेकिन हम स्मार्ट फोन दे रहे हैं आप फोटो खींच लेना भेजा देना बाकी हम देख लेंगे। 
100 नंबर शुरु होने से नेताओं और थाने में थोड़ी भीड़ कम हो गई है। 
समाजवादी लोगों ने पुलिस के लिए 100 नंबर गरीबों के लिए 108 एंबुलेंस शुरु की है। 
जो संपन्न देश हैं वहां भी इसी तरह की व्यवस्था है जो हमने प्रदेश में लाने का काम किया है। 
इसी जिले का इंजीनियर इसलिए मार दिया गया था क्योंकि वह चंदा नहीं दे रहा था, लोगों की जाने चली गई, लेकिन हमने सुधार लाने का काम किया। 

No comments